खोज

बुधवार, 23 अप्रैल 2008

टेसू के छक्के

काला धंधा
अपनी ही सरकार का, पानी का व्यापार।
मिनरल वाटर बन गया, बीस लिटर जल जार।
बीस लिटर जल जार, चकाचक चांदी होगी।
अफसर-नेता-ख़ास जन, ऐसे जल के भोगी।
`टेसू' सुन ले रेल नीर, तू भी बिकने वाला।
सभी भूल पुण्य प्याऊ का , करते धंधा काला।
























.................................................................
गांधी का देश
धर्म युद्ध का हो गया, अक्षर धाम शिकार।
बरसों से है बस रहा, ‘शीश’ में हाहाकर।
‘शीश’ में हाहाकर, बची न संसद भैया।
‘पाक’ पड़ौसी बना, और है भारत गैया।
‘टेसू’ चांटे खा रहे, गाल बहुत हैं शेष।
पूरी दुनिया जानती, यह गांधी का देश।
























............................................................
नया साल
नये साल का आगमन, नव आशा संचार।
धर्म युद्ध बादल छंटें, उन्माद रहित घर-द्वार।
उन्माद रहित घर-द्वार, चैन की बंसी बाजे।
जले ज्ञान का दीप, शीश सद्बुद्धि विराजे।
'टेसू' शिक्षित जग मुआ, अनपढ़ रहता ठीक।
नहीं गुरु सद्गुरू मिले, या नहीं मानी सीख।



















...................................................

1 टिप्पणी:

  1. आपका ब्लाग देखा, आप के प्रयास की मैं भूरी-भूरी प्रशंसा करता हूं। हिंदी ब्लाग की दुनिया मैं अपकी शौहरतें खीब बढ़ें मेरी मंगल कामनाएं।
    पं. सुरेश नीरव
    मों ९८१०२४३९६६

    उत्तर देंहटाएं

सहयात्रा में पढ़िए